मंगलवार, 9 जून 2009

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) .MP3 फ़ोर्मेट मे..।

सब लोगो के लिये काशिफ़ कि तरफ़ से एक तोह्फ़ा। मैने पुरे एक महिने की मेहनत के बाद कुरआन के हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) के .MP3 फ़ोर्मेट को मै इन्टरनेट पर अपलोड कर पाया ताकि इस को ज़्यादा से ज़्यादा लोगो तक पहुचा सकुं और जो मुस्लिम और गैर-मुस्लिम भाई अरबी भाषा नही जानते है वो कुरआन और इस्लाम के सही मतलब और मक्सद को समझ सके। तहे दिल से कुबुल करें कि कुरआन अल्लाह का कलाम है और अल्लाह के सिवा कोई पूज्ने यौग्य नही।




मैने इस अनुवाद को सात टुक्डों ZIP File की शक्ल मे इन्टरनेट पर अपलोड किया है। इन सातों टुकडॊं को आप यहा दिये गये लिन्क के द्वारा अपने कंप्युटर मे डाउनलोड कर ले। फिर इन्हे UNZIP कर के इन्हे सुने, इस्मे पहले कुरआन की आयत की तिलावत कि गयी है फिर उसका अनुवाद किया गया है। हर फ़ोल्डर के नाम मे उन आयात का पारा नंबर दिया गया है। हां इस तर्जुमे मे आयत नंबर नही दिया है क्यौंकी आयत नंबर देने के बाद ये एक सही सीरियल से आपके .MP3 Player कि Playlist मे नही चलेगा। इसीलिये इसे अलग नंबर दिये हुए है लेकिन जहां कोई नयी आयत शुरु हो रही है वहा - वहा उस आयत का नाम दिया गया है।

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - १

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - २

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - ३

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - ४


कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - ५

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - ६

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) भाग - ७


अल्लाह आप सब कुरआन पढ कर और सुनकर, उसको समझने की और उस पर अमल करने की तौफ़िक अता फ़रमाये।

आमीन, सुम्मा आमीन

18 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया. कुरान अगर यूनिकोड हिन्दी में न हो तो कृपया ये काम भी करने की सोचें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. साथ ही इसे ऑनलाइन सुनने के लिए आर्काइव.ऑर्ग में भी एमपी3 फ़ॉर्मेट में ही चढ़ा दें ताकि लोग इसे सर्च कर सुन सकें

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुरान को यूनीकोड मे करने का काम चल रहा है, बहुत जल्द आप लोगो के सामने होगा।

    आपका बहुत - बहुत शुक्रिया मुझे एक नया तरीका बताने के लिये। बहुत जल्द ये काम भी करूंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bade sabab ka kaam kiya aapne ab mai bhi kuran ko sun or samajh sakta hu
    ishwar or allah ek hai ek hi rahenge duniya chahe kitne bhi naam de le
    uparwala aapki koshisho ko kamyaab kare

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत-बहुत शुक्रिया... इतना अच्छा तोहफ़ा देने के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  6. कभी-कभी अचानक कुछ ऐसा मिल जाता है जिसकी अर्से से तलाश रही होती है। बस कुछ ऐसा ही है यह अनुवाद।
    आभार।
    रवि रतलामी जी का सुझाव अमल में आये तो जरूर बतायें। देवनागरी यूनिकोड में पवित्र कुरआन अवश्‍य पढ़ना चाहूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. www.hindi.alquranbd.com - Read Quran in hindi online. In copyable text form. Search Quran using hindi word. Categorized ayat and more.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत- बहुत शुक्रिया हमारी सहायता करने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  9. क़ुरआन हिंदी में बहुत अच्छा अब लोग पढ़ कर और सुन कर असल मेसेज को जान पाएंगे

    उत्तर देंहटाएं
  10. क़ुरआन हिंदी में बहुत अच्छा अब लोग पढ़ कर और सुन कर असल मेसेज को जान पाएंगे

    उत्तर देंहटाएं
  11. क़ुरआन हिंदी में बहुत अच्छा अब लोग पढ़ कर और सुन कर असल मेसेज को जान पाएंगे

    उत्तर देंहटाएं
  12. HELLO MY DEAR FRIEND!This MESSAGE is only for you especially.ALL TYPES OF CHRONIC&CRITICAL DISEASES:-KIDNEY
    STONE[7-90days],GALL BLADDER STONE[7days],GOUT,JOINTS PAIN ARTHERITIS,OSTEO ARTHERITIS[45-90 days],LIVER DISORDER[30-90 days],GASTRIC[45 days],PILES[7-90 days],HAIR FALLS,GREY HAIR,BALDNESS[3-6 months],all types of MAIL&FEMALES SEXUAL DISEASES[40-90days],THYROID,CHOLESTEROL,BLOOD SUGAR[30-90 days] traeted with guaranteed by our SELF-MADE UNANI MEDICINES.[*T&C APPLY*]
    cont:
    DR M A RIZWAN
    BUMS,hons[BU]
    "UNANI MEDICINES RESEARCH CENTRE"
    M E SCHOOL ROAD
    JUGSALAI,JAMSHEDPUR
    ,JHARKHAND.
    MOB:-9334518872
    Email:-
    drmarizwan1966@gmail.com
    TIME:8-10am,2-4pm,8-10pm
    मेरे प्यारे मिञो!झोलाछाप हकीमों से खुद भी बचें,अपने जानने वालों को भी बचाएँ,हमेशा डिग्रीधारी[BUMS]हकीम से ही ईलाज कराएँ,उनसे खुद की बनाई दवाएँ ही माँगें।यूनानी कंपनियाँ केवल मजेदार व टेस्टी दवा दे सकती हैं,जबकि हकीम की बनाई ताजा,असली कड़वी कसैली दवाओं में फायदा ही फायदा मिलेगा।हकीमी ईलाज मतलब-
    "ताजा दवा,जिसे हकीम साहब बनाकर दें।"THANKS.

    उत्तर देंहटाएं
  13. पहली आयत जो हिरा सुरंग की चट्टान पर पैगंबर ने ईश्वर से सुन कर लिखी या आसमान से उतर, मेहरवानी कर बतावें हिंदी में माइने।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अल्ला ताला ने मुहब्बत को अहमियत दी, तो फिर आपस में दो मुसलमान नफ़रत कर क्या गलत नहीं कर रहे?

    उत्तर देंहटाएं

आपको लेख कैसा लगा:- जानकारी पूरी थी या अधुरी?? पढकर अच्छा लगा या मन आहत हो गया?? आपकी टिप्पणी का इन्तिज़ार है....इससे आपके विचार दुसरों तक पहुंचते है तथा मेरा हौसला बढता है....

अगर दिल में कोई सवाल है तो पुछ लीजिये....

Related Posts with Thumbnails